रविवार, 17 जनवरी 2010

अनाथ गरीबों के हितों के लिए कोई मशाल जलाओ

अहमदनगर शहर के सुपरिचित युवा कवि अनिल कुडिया 'नगरी' का 'मशाल उठाओ' यह प्रथम काव्य संग्रह अगस्त 2004 में प्रकाशित हुआ है। इस संग्रह का प्रकाशन सुप्रसिध्द कवि उर्मिल ने किया है। दिल्ली के कल्पतरु प्रकाशन ने आकर्षक मुखपृष्ठ एवं सुंदर कलेवर के साथ इसे छापा है।
अहमदनगर शहर के रक्षा लेखा कार्यालय में बहुत दिनों से कार्यरत अनिल कुडिया जी अब पुणे स्थित कार्यालय में हिंदी अधिकारी पद पर कार्यरत है। प्रयोजन मूलक हिंदी और साहित्य में स्नातकोत्तर इस कवि ने बी.एड कोर्स भी पूरा किया है। कार्यालय में अनुवाद और प्रशासकिय हिंदी कार्य करते हुए अनिल कुडिया हिंदी कविता के साथ अनेक वर्षों से जुडे रहे। अहमदनगर में यदाकदा आयोजित हर किसी हिंदी कवि सम्मेलन में भाग लेते रहे है । नौकरी और साहित्य प्रेम के अलावा इन्होंने समाजसेवा के क्षेत्र में भी अपना नाम रोशन किया है। वेश्याओं और उनके बच्चों के पूनर्वास के लिए समर्पित समाजसेवी संस्था 'स्नेहालय' के संस्थापक सदस्य होने के नाते आपने निराधार बालक और शोषित नारी के उत्थान में मानवीय संवेदना के साथ प्रामाणिक कार्य किया है। अपने जीवन में भोगे हुए यथार्थ को कविता के माध्यम से प्रकट किया है। अनिल कुडिया की कविताएँ सोफे पर बैठकर कल्पना की प्रतिभा से नहीं बल्कि जीवन के दाहक अनुभवों से गुजर कर लिखी हुई है।
छोटे शहर से अनिल महानगरी पुणे और मुंबई के साहित्यिक गुट में शामिल हुए । प्रतिभावान और सच्चे अनुभवों के बोल अनेकों को भा गए । कवि उर्मिल ने इस प्रथम काव्य संग्रह प्रकाशन में महत्वपूर्ण योगदान दिया।
अनिल कुडिया को अभीष्ट पद प्राप्त होने का आशिर्वाद देते हुए कवि उर्मिल कहते है -
अहमदनगर शहर के यूवा कवि अनिल कुडिया 'नगरी' द्वारा लिखित 'मशाल उठाओ ' काव्य संग्रह की रचनाएँ मानवीय संवेदनाओ के साथ जुडी हुई है। आपकी कविता में सच्चाई है, धरती की खुशबू है और संवेदनाओं से भरी अनुभूति का आविर्भाव है। मान्यताओं को चुनौती देते हुए शोषण का प्रतिकार करनेवाले कवि अनिल ने अपनी सर्जन यात्रा में जाने-पहचाने संदर्भों के स्पर्श के साथ साथ चिंतन का आधार लेते हुए समीक्षकों के अनुत्तरित प्रश्नों का हल दिखाया है। एक ऐसा प्रस्थान दिखाया है कि आगे की लंबी यात्रा में बिछुडे हुए सभी को जुडने का मौका मिले।
इस संग्रह की भूमिका पुणे विश्वविद्यालय के पूर्व आचार्य एवं हिंदी विभाग अध्यक्ष डॉ. केशव प्रथमवीर जी ने लिखी है। उनके अनुसार दलित, पीडित, शोषित और उपेक्षित आम जनता को त्रस्त करनेवाले समाज के दरिंदों, धार्मिक ठेकेदारों, राजनेताओं तथा विभिन्न प्रकार से आर्थिक शोषण करनेवालो के रक्तरंजित दांतो को पहचान लेनेवाला यह कवि संघर्ष और जागृति की मशाल उठाकर कहता है-
रोज की चर्चाओं को विराम लगाओं
अपने बिलों से बाहर आओ
न्याय हथौडा हाथ में उठाओ
बिगडे सांडो को नकेल पहनाओं
जागो और जगाओ
मशाल उठाओ ।

आओ हम कविता संग्रह के अंदर झांक कर देखें ।
निराधार नाबालीग बच्चों को फूटपाथ पर बुट पॉलिश करते हुए या किसी होटल में टेबल साफ करते हुए बच्चों को देखकर कवि अपनी ' नाबालिग बुढे ' कविता में कहता है -
' जिंदगी के स्कूल में पढते है
जिंदा रहने के लिए जिंदगी से लडते हैं।
ये हालाती बुढे
एक पूरा परिवार चलाते है।
हर बाल दिवस पर इन बुढों को
बच्चा बनाने की कई योजनाएँ बनाई जाती है ।
जिनके लागु होने से पहले ही
नाबालिग बुढों की नई फौज पैदा हो जाती है।

कवि कहता है कि
' इस जालिम जिंदगी में
सिर की धूप और पेट की भूख ने
मेरे मन को दर दर भटकाया है।'
इस दर-दर भटकने की यात्रा में कवि ने दाहक संवेदनाहिन अनुभवों को झेला है। इस मानवीय विसंगतियों को चिंतन के सहारे शब्दों में ढाला है।
महापुरुषों के आदर्श हमारे सामने रखें जाते है। उनके आदर्श नि:संशय महान है। लेकिन नीजी प्रयासों के सिवाय कोई भी यात्रा निरर्थक हो जाती है। कवि विद्रोही बनकर अपनी आत्म शक्ति को ढुंढने की सलाह देता है।
संजीवनी कविता में वह कहता है -
कब तक कहां तक कोई
फूले गांधी अंबेडकर
हमें बैसाखियाँ थमाएंगें
और कंधे पर बैठकर
हम कैसे नदी पार कर पाएँगें।
हमारे देश की आबादी बाढ की तरह बढ रही है। अनेक योजनाएँ जनसंख्या की आबादी में बह जाती है। बिन बच्चे वाले अमीर परिवार के लिए विज्ञान ने टेस्ट टयूब बेबी का सफल अविष्कार किया है।
इस पर व्यंग्य कसते हुए कवि कहता है -
नारियों को प्रसव पीडा से बचाया है,
अब कोई दूसरों का पाप नहीं अपनाएंगा ।
हर बांझ के घर कांच का बच्चा आएगा
वाह रे विज्ञान तेरा दान
लाखों अनाथों के दु:ख से रहा तू अनजान !
इस कविता संग्रह में चार लाईनवाले चौके भी कवि ने लगाए है। जो एक सुविचार की तरह मार्गदर्शक है।
शहर की बनावटी जिंदगी को शब्दों में उजागर करते हुए कवि लिखता है -
' चेहरा संभालते है शहरी
संबंध संभालते है देहाती
अपनी अपनी जिम्मेदारियाँ है
शहर गांव में यही दूरियाँ हैं।
अनाथालय के बच्चों के प्रति कवि के मन में दया भाव है। जो बचपन भूख प्यास में गुजर जाता है उसकी जवानी क्या हो सकती है ?





इस प्रश्न का उत्तर खोजते हुए कवि कहता है -
कोई भी बच्चा अनाथालय में न पले
फूल अन्याय, अत्याचार, तिरस्कार
सहते हुए न खिलें
जिन बच्चों की माँ नहीं है।
उनके लिए हमें कुछ करना चाहिए !
धर्म के नाम पर हर कोई इंसानियत की हत्या करें और उसे धर्म के पालन करनेवाला मानकर धर्मप्रेमी माना जाए तो गुलशन उजाडने में कोई समय नहीं लगेगा । हमें इस धर्म की बंदूक को दूर करके भाईचारे की रोटी हमनिवाला लेकर इंसानियत को रोशन करना चाहिए।
बेतुका बवाल कविता में बेटी ने पुछे हुए बेतुके सवाल पर कवि अकल की बात कहता है -
बच्ची ने मुझसे पूछा -
सडकों पर सन्नाटा और अस्पताल में शोर क्यों है,
पापा सडकें तो कैजुअल लीव पर है बेटी
अस्पताल में रंगाई का काम चल रहा है।
हर सफेद चादर लाल की जा रही है।
ये होली के दीवानों की टोली
उसी की ओर जा रही है।
मत देख इन्हें वरना तुझे भी रंग देंगे।
आसुंओं से रंग नहीं धुलता है।
नन्हीं लाशें देखकर दिल बहुत जलता है
और बच्चों का तो मुआवजा भी
कम मिलता है।
कवि ने जीवन के दु:ख, वेदना को करीब से देखा है। घायल मन ही घायल की गति जानता है। खाली विद्रोह प्रकट करने से प्रश्नों के उत्तर मिलते नहीं । कुछ चिंतन और कुछ हल ढुंढ निकला जाए यही दृष्टी
लेकर कवि आगे बढ रहा है।