सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं
अपनी भाषा का टुटने का दर्द

रुस के कझाकिस्तान और उझबेकिस्तान के सरहद पर हिंदी भाषा का प्रयोग किया जाता है। व्यापार व्यवसाय के कारण जैनियों,पंजाबियों एवं उत्तर भारतीयों ने यहां अपना घर बसाया। उनकी भाषाओं के संमिश्रण के कारण रुस में एक नई हिंदी भाषा ने जन्म लिया। इस अनोखे हिंदी पर हिंदी भाषा के विद्वान स्व.भोलानाथ तिवारी जी ने अनुसंधान किया। जिस अनुसंधान के फलस्वरुप उन्हें दिल्ली विश्वविद्यालय ने पी.एच.डी. प्रदान की।
वहां एक जगह पर घुमते हुए उन्होंने देखा कि एक जगह दो रुसी महिलाओं में झगड़ा हो रहा था। एक महिला ने गाली दी जिसपर दूसरी महिला तत्काल फुट कर रो पड़ी। उन्हें अत्यंत आश्चर्य हुआ कि तब उन्होंने अपने रुसी मित्र को पुछा कि वह कौनसी गाली थी जिसपर वह महिला रोने लगी। दो महिलाओं में जब कोई झगड़ा होता है तो भाषा में निखार आ जाता है। उनके मित्र ने कहां कि उस गाली का मतलब है कि “तुने सिखायी हुई भाषा तेरा बच्चा बड़ा होकर उसे भूल जाए ” । तिवारी जी के दिल को इस बात से झंझोड़ दिया क्योंकि वे भाषा विद्वान थे जिन्हें यह मालूम था कि अपनी मातृभाषा से टुटना याने अपने परिवार,समाज और देश से टुट जाना।
अपनी भाषा से टुट जाने का सिलसिला आज तक जारी है आगे भी जारी रहेगा। अब हमें यह सोचना होगा कि संपत्ति, विकास,नाम शोहरत के लिए दूसरी भाषा को हमारे घर परिवार में कितना पूजा जाना चाहिए। कहते है कि आई-टी में अँग्रेजी का ही बोलबाला है। क्या हमें कॉल सेंटर के जरिए विदेशी लोगों की जीवन भर गुलामगिरी ही करनी है या अपने लोगों के लिए भी कुछ करना चाहिए ? जिस परिवार ने हमें पाल पोस कर बड़ा किया उनकी भाषा के प्रति क्या हमारा कोई उत्तरदायित्व नहीं बनता है ?
आज राजनीति में राज ठाकरे अगर यह कहें कि महाराष्ट्र में मराठी का प्रयोग होना चाहिए तो उसमें बूरा क्या है ? लेकिन भाषा आग्रह के लिए हिंसा का सहारा लेना कदापि स्वीकार्य नहीं है। राज ठाकरे कहते है कि महाराष्ट्र में अन्य प्रांतियों का आक्रमण हो रहा है। जिसके कारण मराठी लोगों को नौकरी नहीं मिल रही है। उनके पास मुंबई,पुणे के मॅकडोनल्ड के अधिकारी गए और कहने लगे कि हमारे दुकान की नेमप्लेट अँग्रेजी में है और उसके साथ मराठी को जोड़ना महंगा होगा तब राज ने पुछा कि नामपट्ट महंगा है या आपकी दुकान का माल महंगा है। माल की कीमत की रक्षा करने के लिए क्या आप मराठी का प्रयोग नहीं कर सकते ? कुछ राजनीति की बातों को छोड़ दे तो राज ठाकरे यह भी स्वीकार करते है कि उन्हें अन्य भाषाओं के प्रति कोई घृणा नहीं है। उनका आग्रह मराठी को बढावा देना है। वे कहते है कि पूर्व प्रधान मंत्री स्व.नरसिंह राव जी को अनेक भारतीय भाषाओं का ज्ञान था। अटल जी भी अनेक भाषोओं के ज्ञानी है। सोनिया जी को भी इतालवी के अलावा हिंदी भाषा का भी ज्ञान है।
विस्थापन के कारण अनेक भारतीय लोक दक्षिण अफ्रिका,वेस्ट इंडिज,मॉरिशस आदि देशों में गिरमिटिया बन गए। मतलब यह है कि अँग्रजों ने एग्रीमेंट पर बंधक मजदूर बना दिया। उन्होंने भी विदेशी धरती पर छोटा भारत बना दिया। महात्मा गांधी के प्रथम संग्राम की पृष्ठभूमि भी यही विस्थापित भारतीयों के परिवार की कहानी है जिसे डॉ.गिरिराज किशोर जी ने पहला गिरमिटिया में वर्णन किया है। जब गांधी भारत आए तब कॉंग्रेस की सभा को वे हिंदी में संबोधित करने लगे। उन्होंने लोकमान्य टिळक को अँग्रेजी के बजाय हिंदी में भाषण देने का अनुरोध किया।
विजय प्रभाकर कांबले
राजभाषा अधिकारी भारत संचार निगम लि. अहमदनगर महाराष्ट्र भारत. मोबाईल-०९४२२७२६४०० Email- viprakamble@gmail.com
http://rajbhashamanas.blogspot.com htttp://groupus.goo

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रभाषा से राजभाषा की यात्रा में हिंदी

भारतीय संविधान सभा के तत्कालीन अध्यक्ष एवं स्वतंत्र भारत के प्रथम महामहिम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी ने लोकसभा में राज भाषा हिंदी पर हुई चर्चा के उपरांत दिनांक 14.9.1949 को सभा को संबोधित किया। राज भाषा हिंदी को स्वीकार करने पर उन्होंने हिंदीतर सदस्यों का विशेष आभार व्यक्त किया क्योंकि राष्ट्रीय एकता एवं स्वाभिमान के लिए किसी एक भारतीय भाषा को राज भाषा के रुप में स्वीकार करना आवश्यक था। इस भाषण में उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया है कि राज भाषा हिंदी को बहुमत से स्वीकार किया गया है। वर्तमान राजनीति में हिंदी को राष्ट्र भाषा न मानने की होड़ लगी है जो देश की एकता के लिए घातक है। हमें भारतीय भाषा भगिनी परिवार में एकता एवं समन्वय रखना चाहिए क्योंकि इस राष्ट्र की संस्कृति एक है। जिस तरह एक देश, एक ध्वज,एक राष्ट्र गीत एवं एक राष्ट्र भाषा की संकल्प ना को विश्व में स्वीकार किया जाता है उसी तरह हमारे देश में राष्ट्रीय स्वाभिमान के प्रतीकों का सम्मान करना चाहिए जो अनिवार्य भी और हितकारी भी होगा। भारतीय संविधान के कलम ३०१ के अनुसार हिंदी राज भाषा है जो देवनागरी लिपि में लिखी जाती ह…

सूचना प्रौद्योगिकी व्याख्या एवं परिचय

भाषा अभिव्यक्ती का सशक्त माध्यम है। भाषा मानव जीवन का अभिन्न अंग है। संप्रेषण के द्वारा ही मनुष्य सूचनाओं का आदान प्रदान एवं उसे संग्रहीत करता है। सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक अथवा राजनीतिक कारणों से विभिन्न मानवी समूहाओं का आपस में संपर्क बन जाता है। गत शताब्दी में सूचना और संपर्क के क्षेत्र में अद्भुत प्रगति हुई है। इलेक्ट्रानिक माध्यम के फ़लस्वरूप विश्व का अधिकांश भाग जुड गया है। सूचना प्रौद्योगिकी क्रांती ने ज्ञान के द्वार खोल दिये है। बुद्धी एवं भाषा के मिलाप से सूचना प्रौद्योगिकी के सहारे आर्थिक संपन्नता की ओर भारत अग्रेसर हो रहा है। इलेक्ट्रानिक वाणिज्य के रूप में ई-कॉमर्स, इंटरनेट द्वारा डाक भेजना ई-मेल द्वारा संभव हुआ है। ऑनलाईन सरकारी कामकाज विषयक ई-प्रशासन, ई-बैंकींग द्वारा बैंक व्यवहार ऑनलाईन , शिक्षा सामग्री के लिए ई-एज्यूकेशन आदि माध्यम से सूचना प्रौद्योगिकी का विकास हो रहा है। सूचना प्रौद्योगिकी के बहु आयामी उपयोग के कारण विकास के नये द्वार खुल रहे है। भारत में सूचना प्रौद्योगिकी का क्षेत्र तेजी से विकसित हो रहा है। इस क्षेत्र में विभिन्न प्रयागों का अनुसंधान करके विकास की ग…

आदिवासियों के लिए गुँजते रहेंगे - नगाड़े की तरह बजते शब्द

अभी हाल ही में संथाली भाषा को संविधान में प्रमुख भारतीय भाषा का दर्जा प्राप्त हुआ है। भारतीय ज्ञानपीठ ने संथाली भाषा की सशक्त कवयित्रि निर्मला पुतुल का काव्य संग्रह ' नगाडे की तरह बजते शब्द' का प्रकाशन किया है। झारखंड के दुमका की निर्मला पुतुल संथाल आदिवासी की नई सुशिक्षित पीढी का प्रतिनिधित्व करती है।
उनकी कविताओं में आदिवासी समाज की पीडा, अत्याचार शोषण के खिलाफ बेचैन आवाज निकलती है।
इस संग्रह के अलावा उनका दिल्ली के रमणिका फाउंडेशन द्वारा 'अपने घर की तलाश में ' संग्रह प्रकाशित हुआ है।
निर्मला पुतुल की रचनाएँ भारत की प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हो रही है। साहित्य अकादमी नई दिल्ली ने उन्हें आदिवासी युवा कवियित्रि के रुप में पुरस्कृत किया है। यह पुरस्कार संथाली भाषा की सशक्त
रचनाकार होने के नाते उन्हें प्राप्त हुआ है। इनकी कविताओं का सशक्त हिंदी अनुवाद झारखंड के दुमका के हिंदी के सुपरिचित कवि श्री अशोक सिंह ने किया है।
हिंदी प्रदेश से संबंधित होने के कारण यह हिंदी साहित्य की नविन पहचान है। सुप्रसिध्द बांग्ला साहित्यकार महाश्वेता देवीजी ने उन्हें सम्मानि…