सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ई-महाशब्दकोश


राजभाषा विभाग,गृह मंत्रालय,भारत सरकार ने सी-डैक पुणे के तकनीकी सहयोग से ई-महाशब्दकोश का निर्माण किया है। इस योजना के अंतर्गत शुरुआती दौर में प्रशासनिक शब्द संग्रह को देवनागरी यूनिकोड में प्रस्तुत किया गया है। इसमें आप अँग्रेजी का हिंदी पर्याय तथा हिंदी शब्दों का वाक्य में अतिरिक्त प्रयोग देख सकते है। इसकी विशेषता यह भी है कि आप हिंदी शब्दों का उच्चारण भी सुन सकते है। यह एक बहुउपयोगी शब्दकोश है। इसमें आप अन्य शब्द जोड सकते है। इसे अधिक उन्नत करने में आपका सहयोग अपेक्षित है।
इस ई-महाशब्दकोश की मुख्य विशेषताएँ - देवनागरी लिपि के लिए यूनीकोड फॉन्ट ,खोजे गये शब्द का उच्चारण,स्पष्ट लेआउट / जी. यू. आई. प्रयोग में आसान ,तीन अक्षरों पर शब्द सूची,पूर्ण शब्द खोज,द्विआयामी खोज,शब्दों की सूची में से खोजने की सुविधा ,सही मौखिक उच्चारण और संबंधित जानकारी,अर्थ एवं संबंधित जानकारी,शब्द / प्रदबंध का प्रयोग,शब्द / प्रदबंध का सचित्र चित्रण (जहॉं उचित हो) है।
श्रीमती पी.वी. वल्‍सला जी. कुट्टी ,संयुक्‍त सचिव, भारत सरकार ,राजभाषा विभाग,गृह मंत्रालय के अनुसार काफी समय से केन्‍द्र सरकार के कर्मचारियों के कार्य में हिंदी प्रयोग को बढ़ावा देने हेतु प्रयास किए गए हैं । अनुभव बताता है कि केन्‍द्र सरकार के कार्यालयों और संगठनों में बड़ी संख्‍या में कर्मचारी अपने क्रियाकलापों में हिंदी का अधिकाधिक प्रयोग करने के इच्‍छुक हैं परंतु पर्याप्‍त तकनीकी सुविधाओं के अभाव में हिंदी भाषा का प्रयोग प्रभावशाली ढंग से नहीं कर पाते हैं । सरकार द्वारा हिंदी में सहजता से कार्य करने के लिए प्रभावी साधनों को मुहैया कराने पर विचार किया गया है । हिंदी के प्रगामी प्रयोग को बढ़ावा देने हेतु इलैक्‍ट्रॉनिक मीडिया के माध्‍यम से आधुनिक तकनीक के समावेश के विचार ने उन लोगों की समस्‍या के समाधान के रूप में जन्‍म लिया जो हिंदी में कार्य करने के इच्‍छुक हैं परंतु पर्याप्‍त सुविधा के अभाव में ऐसा करने से झिझक रहे हैं । सरकारी कार्यालयों में सरल व प्रभावी तरीके से हिंदी में कार्य करने के लिए उपयुक्‍त सॉफ्टवेयरों के विकास हेतु राजभाषा विभाग ने सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय की कंप्‍यूटिंग कंपनी, नामत:, सी-डैक, पुणे के साथ एक समझौता किया है । पिछले कुछ वर्षों में विकसित सॉफ्टवेयरों में हिंदी भाषा का स्‍वयं शिक्षण (लीला-श्रृंखला), मंत्रा श्रृंखला द्वारा चुने गए कार्यक्षेत्रों में अंग्रेजी से हिंदी तुरंत अनुवाद, हिंदी डिक्‍टेशन के लिए श्रुतलेखन सॉफ्टवेयर, अंग्रेजी स्‍पीच की पहचान कर उसे हिंदी में अनुवाद के लिए वाचांतर सॉफ्टवेयर शामिल है । सॉफ्टवेयरों के विकास की इस श्रृंखला में नवीनतम विकास राजभाषा विभाग द्वारा सी-डैक के माध्‍यम से ई-महाशब्दकोश का विकास है, जो कि एक द्विभाषी-द्विआयामी उच्‍चारण शब्दकोश है । प्रौद्योगिकी को हिंदी के प्रयोग से जोड़कर राजभाषा के प्रयोग को बढ़ाने के इरादे से हिंदी प्रेमियों के लिए ई-महाशब्दकोश को प्रस्‍तुत करना मेरे लिए हर्ष और गर्व की बात है । ई-महाशब्दकोश के वर्तमान शुरूआती संस्‍करण में प्रशासनिक कार्यक्षेत्र में प्रयुक्‍त होने वाले शब्‍दों को शामिल किया गया है । मुझे विश्‍वास है कि ई-महाशब्दकोश प्रयोगकर्ताओं में बहुत लोकप्रिय होगा क्‍योंकि यह केन्‍द्र सरकार के कार्यालयों में हिंदी में सामान्‍य कार्य करने में आने वाली अनेक बाधाओं को दूर करने में सहायक होगा । वास्‍तव में यह केवल सीमित अर्थों में एक शब्दकोश ही नहीं वरन् इससे आगे अपनी पहुंच को ले जाते हुए यह शुद्ध उच्‍चारण, विशेष प्रयोगकर्ताओं के लिए विशिष्‍ट अर्थ देना, शब्‍दों और मुहावरों को प्रयोग करने का विवरण आदि सुविधाओं को देने में सहायक है । यह कहने की आवश्‍यकता नहीं है कि यह शब्दकोश मुहावरों को प्रयोग करने में आने वाली दिक्‍कतों को दूर करने तथा उनको ठीक से दिखाने में प्रयोगकर्ता के लिए लाभकारी होगा । ई-महाशब्दकोश उनके लिए बहुत उपयोगी होगा जो वास्‍तव में हिंदी में काम करना चाहते हैं । सी-डैक, पुणे के सहयोग से राजभाषा विभाग द्वारा विकसित कराए गए सॉफ्टवेयरों में यह एक उल्‍लेखनीय उत्‍पाद होगा । ई-महाशब्दकोश की सूची में आगे सुधार के लिए यह आवश्‍यक होगा कि अधिक से अधिक लोग इसका प्रयोग करके अपना अमूल्‍य फीड-बैक राजभाषा विभाग या सी-डैक को भेजें ताकि ई-महाशब्दकोश की सक्षमता और दक्षता को अति उच्‍च स्‍तर तक ले जाया जा सके ।
राजभाषा विभाग के कार्यविधि की अधिक जानकारी के लिए, कृपया इन वैबसाईट पर संपर्क करे. http://rajbhasha.gov.in.
अधिक जानकारी हेतु संपर्क करें-
• राजभाषा विभाग (डी.ओ.एल),तकनीकी कक्ष, गृह मंत्रालय
दूसरा माला, लोक नायक भवन,खान मार्केट, नई दिल्ली - 110 003
टेली : (o11) 2461 7695 / 2461 9860
फैक्स : (011) 2461 1031 / 2461 7809
ई-मेल : techcell-ol@nic.in
वेबसाईट : http://rajbhasha.nic.in

• प्रगत संगणन विकास केन्द्र (सी-डैक), एप्लाइड आर्टिफिशियल इंटैलीजेंस ग्रुप,
6वी मंजिल, एन.एस.जी. आय.टी. पार्क,स. नं. - 127/2B/2A, औंध, पुणे - 411 007,महाराष्ट्र (भारत)
टेली : (020) 25503314/15 फैक्स : (020) 25503334
ई-मेल: darbari@cdac.in वेबसाईट : http://cdac.in

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रभाषा से राजभाषा की यात्रा में हिंदी

भारतीय संविधान सभा के तत्कालीन अध्यक्ष एवं स्वतंत्र भारत के प्रथम महामहिम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी ने लोकसभा में राज भाषा हिंदी पर हुई चर्चा के उपरांत दिनांक 14.9.1949 को सभा को संबोधित किया। राज भाषा हिंदी को स्वीकार करने पर उन्होंने हिंदीतर सदस्यों का विशेष आभार व्यक्त किया क्योंकि राष्ट्रीय एकता एवं स्वाभिमान के लिए किसी एक भारतीय भाषा को राज भाषा के रुप में स्वीकार करना आवश्यक था। इस भाषण में उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया है कि राज भाषा हिंदी को बहुमत से स्वीकार किया गया है। वर्तमान राजनीति में हिंदी को राष्ट्र भाषा न मानने की होड़ लगी है जो देश की एकता के लिए घातक है। हमें भारतीय भाषा भगिनी परिवार में एकता एवं समन्वय रखना चाहिए क्योंकि इस राष्ट्र की संस्कृति एक है। जिस तरह एक देश, एक ध्वज,एक राष्ट्र गीत एवं एक राष्ट्र भाषा की संकल्प ना को विश्व में स्वीकार किया जाता है उसी तरह हमारे देश में राष्ट्रीय स्वाभिमान के प्रतीकों का सम्मान करना चाहिए जो अनिवार्य भी और हितकारी भी होगा। भारतीय संविधान के कलम ३०१ के अनुसार हिंदी राज भाषा है जो देवनागरी लिपि में लिखी जाती ह…

सूचना प्रौद्योगिकी व्याख्या एवं परिचय

भाषा अभिव्यक्ती का सशक्त माध्यम है। भाषा मानव जीवन का अभिन्न अंग है। संप्रेषण के द्वारा ही मनुष्य सूचनाओं का आदान प्रदान एवं उसे संग्रहीत करता है। सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक अथवा राजनीतिक कारणों से विभिन्न मानवी समूहाओं का आपस में संपर्क बन जाता है। गत शताब्दी में सूचना और संपर्क के क्षेत्र में अद्भुत प्रगति हुई है। इलेक्ट्रानिक माध्यम के फ़लस्वरूप विश्व का अधिकांश भाग जुड गया है। सूचना प्रौद्योगिकी क्रांती ने ज्ञान के द्वार खोल दिये है। बुद्धी एवं भाषा के मिलाप से सूचना प्रौद्योगिकी के सहारे आर्थिक संपन्नता की ओर भारत अग्रेसर हो रहा है। इलेक्ट्रानिक वाणिज्य के रूप में ई-कॉमर्स, इंटरनेट द्वारा डाक भेजना ई-मेल द्वारा संभव हुआ है। ऑनलाईन सरकारी कामकाज विषयक ई-प्रशासन, ई-बैंकींग द्वारा बैंक व्यवहार ऑनलाईन , शिक्षा सामग्री के लिए ई-एज्यूकेशन आदि माध्यम से सूचना प्रौद्योगिकी का विकास हो रहा है। सूचना प्रौद्योगिकी के बहु आयामी उपयोग के कारण विकास के नये द्वार खुल रहे है। भारत में सूचना प्रौद्योगिकी का क्षेत्र तेजी से विकसित हो रहा है। इस क्षेत्र में विभिन्न प्रयागों का अनुसंधान करके विकास की ग…

आदिवासियों के लिए गुँजते रहेंगे - नगाड़े की तरह बजते शब्द

अभी हाल ही में संथाली भाषा को संविधान में प्रमुख भारतीय भाषा का दर्जा प्राप्त हुआ है। भारतीय ज्ञानपीठ ने संथाली भाषा की सशक्त कवयित्रि निर्मला पुतुल का काव्य संग्रह ' नगाडे की तरह बजते शब्द' का प्रकाशन किया है। झारखंड के दुमका की निर्मला पुतुल संथाल आदिवासी की नई सुशिक्षित पीढी का प्रतिनिधित्व करती है।
उनकी कविताओं में आदिवासी समाज की पीडा, अत्याचार शोषण के खिलाफ बेचैन आवाज निकलती है।
इस संग्रह के अलावा उनका दिल्ली के रमणिका फाउंडेशन द्वारा 'अपने घर की तलाश में ' संग्रह प्रकाशित हुआ है।
निर्मला पुतुल की रचनाएँ भारत की प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हो रही है। साहित्य अकादमी नई दिल्ली ने उन्हें आदिवासी युवा कवियित्रि के रुप में पुरस्कृत किया है। यह पुरस्कार संथाली भाषा की सशक्त
रचनाकार होने के नाते उन्हें प्राप्त हुआ है। इनकी कविताओं का सशक्त हिंदी अनुवाद झारखंड के दुमका के हिंदी के सुपरिचित कवि श्री अशोक सिंह ने किया है।
हिंदी प्रदेश से संबंधित होने के कारण यह हिंदी साहित्य की नविन पहचान है। सुप्रसिध्द बांग्ला साहित्यकार महाश्वेता देवीजी ने उन्हें सम्मानि…