बुधवार, 17 अप्रैल 2019

अमेरिकन प्रोजेक्ट में हिंदी

The Gateway to Educational Material (GEM) यह अमेरिकन सरकार का प्रोजेक्ट है जो सिराकस यूनिवर्सिटी को दिया गया था।तब कंप्यूटर और इंटरनेट पर हिंदी भाषा ने नया कदम रखा था।
    मुझे यह देखकर अत्यंत आश्चर्य हुआ था कि इस अंतरराष्ट्रीय प्रोजेक्ट में हिंदी भाषा को शामिल नहीं किया था। विश्व की अनेक भाषाओं की जानकारी लिंक सहित वहां उपलब्ध थी।मुझे यह बात हजम नहीं हुई कि हिंदी सर्च करने पर वहाँ निल रिपोर्ट आ रही थी।
    मैंने इस प्रोजेक्ट में हिंदी भाषा संबंधित वेब पेजेस, भारत सरकार के प्रोजेक्ट,हिंदी सॉफ्टवेयर आदि विस्तृत जानकारी लिंक सहित अमेरिकन प्रोजेक्ट को प्रदान की थी।
  मेरे इस योगदान को अमेरिकन प्रोजेक्ट ने स्वीकार की थी।उसकी परिवर्तन नीति में मेरी स्वीकृति ली गई थी।
  मेरे लिए यह गौरव की बात थी।
मैं हर बार पुणे जाता तो सी डैक जरूर जाता था।वहां हिंदी विभाग के साइंटिफिक ऑफिसर से संपर्क करता था।मेरे मन में हिंदी और  सूचना प्रौद्योगिकी को लेकर रोमांचक उत्साह था।
    इसके बाद मैंने हिंदी और सूचना प्रौद्योगिकी के अभ्यास में कार्यरत रहा।

(नोट-मेरा पहला सरनेम "कांबळे"था जो बाद में "नगरकर"में गैज़ेट द्वारा परिवर्तित किया गया।)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मी तुला अर्पण करून जाईल

मी माझे सर्वस्व तुला अर्पण करून निरोप घेईल मुलांनो, मी  माझी विनम्रता गिळंकृत केली आहे मी माझी बनावट संपत्ती तुम्हाला वारस  ठेऊन जात आहे मी ...