सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एंड्राइड मोबाइल में हिंदी का विकास


आज मोबाइल मार्केट में एंड्राइड  मोबाइल फोन की धूम मची है। आज की नई पीढ़ी एंड्राइड मोबाइल की सहायता से शिक्षा, पर्यटन, विदेशी भाषा सीखना, ऑन लाइन बुकिंग करना जैसे अनेक कार्य आसानी से कर रहे है। यह एक  ऑपरेटिंग सिस्टम है जो लिनक्स पर आधारित है। इसका विकास गूगल द्वारा किया गया है। एंड्राइड का विकास मुख्य रूप से टच स्क्रीन मोबाइल के लिए किया गया है जिसे हम आजकल स्मार्ट फोन भी कहते हैं। इसका इस्तेमाल टेबलेट कंप्यूटर में भी किया जाता है। आजकल एंड्राइड पर आधारित कार, टीवी कलाई घड़िया भी आ रही है। इस ऑपरेटिंग सिस्टम में सब कुछ टच आधारित है जैसे वर्चुअल की बोर्ड, स्वीपिंग, टैपिंग, पिंचिंग इत्यादि। इस ऑपरेटिंग सिस्टम में गेम, कैमरा आदि सुविधाएँ भी बखूबी उपलब्ध है। इस समय जितने मोबाइल उपलब्ध उनमें सबसे अधिक यही ऑपरेटिंग सिस्टम उपलब्ध  है।
एण्ड्राइड मोबाइल में हिंदी का विकास तेजी से हो रहा है। अनेक एप्स उपयोगी है लेकिन इनमें विकास की गुंजाइश है। हिंदी एप्स को समय समय पर उन्नत करने की आवश्यकता है। हमने शिक्षा,आरोग्य, साहित्य जैसे अनेक शाखाओं में हिंदी में विपुल रचानाएँ की है। एण्ड्राइड मोबाइल में उपयोगी अनेक हिंदी एप्स बनाने की आवश्यकता महसुस की जा रही है। इसमें तकनीकी ज्ञान, संपादकीय कौशल और हिंदी की जानकारी रखनेवाले विद्वानों की जरुरत है।
एंड्रॉयड पर चलने वाले अनुप्रयोग दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं। इन्हें गूगल प्ले या अमेज़न ऍप्पस्टोर के माध्यम से, या किसी तीसरी साइट से ऐपीके (APK) फाइल डाउनलोड करके प्राप्त किया जा सकता है। एप्लीकेशन एंड्रायड सॉफ्टवेयर विकास किट (एसडीके) की मदद से जावा प्रोग्रामिंग भाषा में विकसित किये जाते हैं।
एण्ड्रौइड साफ्टवेयर के पांच भाग या अवयव है जिसके आधार पर पूरा एण्ड्रायिड प्लेट फार्म कार्य करता है। ये किसी अन्य कंप्यूटर आपरेटिंग सिस्टम के अनुरूप ही कई ढीली ढाली साफ्टवेयर पर्तो या के बण्डल है जो आवश्यकतानुसार अन्य पर्तो के साथ जुड कर प्रक्रिया में भाग लेते हैं। वस्तुतः मोबाईल जैसे सीमित मेमोरी (स्मृति क्षमता) वाले उपकरणों सर्वोपयुक्त उपयोग करने के लिए इसे विकसित किया गया है।
वर्तमान में ऍण्ड्रॉइड मोबाइल फोन तथा टैबलेट हेतु एक लोकप्रिय प्रचालन तन्त्र के रुप में उभर रहा है। ऍण्ड्रॉइड में अभी तक (संस्करण ४.०) हिन्दी समर्थन उपलब्ध है।

Google Indic Keyboard से आप अपने Android फ़ोन पर अपनी मातृभाषा में संदेश लिख सकते हैं, सामाजिक नेटवर्क अपडेट कर सकते हैं या ईमेल लिख सकते हैं. अभी इसमें निम्न कीबोर्ड शामिल हैं:


- अंग्रेज़ी कीबोर्ड
- असमिया कीबोर्ड (অসমীয়া)
- बंगाली कीबोर्ड (বাংলা)
- गुजराती कीबोर्ड (ગુજરાતી)
- हिंदी कीबोर्ड (हिंदी)
- कन्नड़ कीबोर्ड (ಕನ್ನಡ)
- मलयालम कीबोर्ड (മലയാളം)
- मराठी कीबोर्ड (मराठी)
- उड़िया कीबोर्ड (ଓଡ଼ିଆ)
- पंजाबी कीबोर्ड (ਪੰਜਾਬੀ)
- तमिल कीबोर्ड (தமிழ்)
- तेलुगू कीबोर्ड (తెలుగు)

अपने फ़ोन पर, यदि आप अपनी भाषा को ऊपर उसकी मूल लिपि में पढ़ सकते हैं, तो आप अपनी भाषा इनपुट करने के लिए Google Indic Keyboard को इंस्टॉल और उपयोग कर सकते हैं; अन्यथा संभवतः आपका फ़ोन आपकी भाषा का समर्थन नहीं करता है.

Google Indic Keyboard इनपुट के विभिन्न मोड का समर्थन करता है:

- लिप्यंतरण मोड - उच्चारण को अंग्रेज़ी अक्षरों में लिखकर अपनी मातृभाषा में आउटपुट प्राप्त करें (जैसे, namaste -> नमस्ते.)

- मूल कीबोर्ड मोड - सीधे मूल लिपि में लिखें. 

- हस्तलेखन मोड (अभी केवल हिंदी में उपलब्ध है) - सीधे अपने फ़ोन की स्क्रीन पर लिखें. 

- हिंग्लिश मोड - यदि आप हिंदीको एक इनपुट भाषा के रूप में चुनते हैं, तो अंग्रेज़ी कीबोर्ड अंग्रेज़ी और हिंग्लिश दोनों तरह के शब्दों का सुझाव देगा.

इसे सक्षम कैसे किया जा सकता है और डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड के रूप में सेट कैसे किया जा सकता है?
- Android 5.x और नए वर्शन पर:
सेटिंग -> भाषा और इनपुट खोलें, “कीबोर्ड और इनपुट पद्धतियांअनुभाग में, वर्तमान कीबोर्ड -> कीबोर्ड चुनें पर जाएं -> “Google Indic Keyboard” को चेक करें -> “भाषा और इनपुटपर वापस आएं -> वर्तमान कीबोर्ड -> “अंग्रेज़ी और भारतीय भाषाएं (Google Indic Keyboard)” चुनें. किसी इनपुट बॉक्स में लिखते समय, आप स्क्रीन में नीचे दाएं कोने में कीबोर्ड आइकन को क्लिक करके भी डिफ़ॉल्ट इनपुट पद्धति बदल सकते हैं.
- Android 4.x पर:
सेटिंग -> भाषा और इनपुट खोलें, “कीबोर्ड और इनपुट पद्धतियांअनुभाग के अंतर्गत, Google Indic Keyboard को चेक करें, फिर डिफ़ॉल्ट क्लिक करें और इनपुट पद्धति चुनेंसंवाद में “Google Indic Keyboard” चुनें.
किसी इनपुट बॉक्स में लिखते समय, आप नोटिफिकेशन क्षेत्र में इनपुट पद्धति चुनेंको चुनकर भी डिफ़ॉल्ट इनपुट पद्धति बदल सकते हैं.



      एंड्राइड में अनेक उपयोगी एप्स बनाए गए है जो मुफ्त भी है और कई सशुल्क उपलब्ध है। गुगल प्ले में सर्च करते समय हिंदी के लिए अनेक एप्स सामने आते है। हिंदी पुस्तकों की सूचि में धार्मिक, शिक्षा, कला, साहित्य, सामान्य ज्ञान,इतिहास  से लेकर अनेक  विषयों का भांडार उपलब्ध है। फिल्म की श्रेणी में अनेक पुराने और नए भारतीय फिल्मों का संग्रह उपलब्ध है। समाचार की श्रेणी के अंतर्गत अनेक सुप्रसिध्द समाचार पत्र जैसे नव भारत टाइम्स, दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर,दैनिक अमर उजाला आदि समाचार पत्रों की शृंखला है।
   सर्वाधिक लोकप्रिय एप्स श्रेणी में अनेक हिंदी व्याकरण, इंडिक की बोर्ड, शब्दकोश,हिंदी कैलेण्डर,लर्न हिंदी, मुहावरे एवं लोकोक्तियाँ, शायरी, कविता, हिंदी चुटकुले, आयुर्वेद, सामान्य ज्ञान, धार्मिक साहित्य, बी.बी.सी. हिंदी, भविष्य आदि अनेक बहु उपयोगी एप्स का संग्रह आपके सामने हाजिर है।

           
 विजय प्रभाकर नगरकर,
भारत संचार निगम लि., अहमदनगर- 414001 महाराष्ट्र
संपर्क- 09422726400   ई-मेल - vpnagarkar@gmail.com



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रभाषा से राजभाषा की यात्रा में हिंदी

भारतीय संविधान सभा के तत्कालीन अध्यक्ष एवं स्वतंत्र भारत के प्रथम महामहिम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी ने लोकसभा में राज भाषा हिंदी पर हुई चर्चा के उपरांत दिनांक 14.9.1949 को सभा को संबोधित किया। राज भाषा हिंदी को स्वीकार करने पर उन्होंने हिंदीतर सदस्यों का विशेष आभार व्यक्त किया क्योंकि राष्ट्रीय एकता एवं स्वाभिमान के लिए किसी एक भारतीय भाषा को राज भाषा के रुप में स्वीकार करना आवश्यक था। इस भाषण में उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया है कि राज भाषा हिंदी को बहुमत से स्वीकार किया गया है। वर्तमान राजनीति में हिंदी को राष्ट्र भाषा न मानने की होड़ लगी है जो देश की एकता के लिए घातक है। हमें भारतीय भाषा भगिनी परिवार में एकता एवं समन्वय रखना चाहिए क्योंकि इस राष्ट्र की संस्कृति एक है। जिस तरह एक देश, एक ध्वज,एक राष्ट्र गीत एवं एक राष्ट्र भाषा की संकल्प ना को विश्व में स्वीकार किया जाता है उसी तरह हमारे देश में राष्ट्रीय स्वाभिमान के प्रतीकों का सम्मान करना चाहिए जो अनिवार्य भी और हितकारी भी होगा। भारतीय संविधान के कलम ३०१ के अनुसार हिंदी राज भाषा है जो देवनागरी लिपि में लिखी जाती ह…

सूचना प्रौद्योगिकी व्याख्या एवं परिचय

भाषा अभिव्यक्ती का सशक्त माध्यम है। भाषा मानव जीवन का अभिन्न अंग है। संप्रेषण के द्वारा ही मनुष्य सूचनाओं का आदान प्रदान एवं उसे संग्रहीत करता है। सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक अथवा राजनीतिक कारणों से विभिन्न मानवी समूहाओं का आपस में संपर्क बन जाता है। गत शताब्दी में सूचना और संपर्क के क्षेत्र में अद्भुत प्रगति हुई है। इलेक्ट्रानिक माध्यम के फ़लस्वरूप विश्व का अधिकांश भाग जुड गया है। सूचना प्रौद्योगिकी क्रांती ने ज्ञान के द्वार खोल दिये है। बुद्धी एवं भाषा के मिलाप से सूचना प्रौद्योगिकी के सहारे आर्थिक संपन्नता की ओर भारत अग्रेसर हो रहा है। इलेक्ट्रानिक वाणिज्य के रूप में ई-कॉमर्स, इंटरनेट द्वारा डाक भेजना ई-मेल द्वारा संभव हुआ है। ऑनलाईन सरकारी कामकाज विषयक ई-प्रशासन, ई-बैंकींग द्वारा बैंक व्यवहार ऑनलाईन , शिक्षा सामग्री के लिए ई-एज्यूकेशन आदि माध्यम से सूचना प्रौद्योगिकी का विकास हो रहा है। सूचना प्रौद्योगिकी के बहु आयामी उपयोग के कारण विकास के नये द्वार खुल रहे है। भारत में सूचना प्रौद्योगिकी का क्षेत्र तेजी से विकसित हो रहा है। इस क्षेत्र में विभिन्न प्रयागों का अनुसंधान करके विकास की ग…

आदिवासियों के लिए गुँजते रहेंगे - नगाड़े की तरह बजते शब्द

अभी हाल ही में संथाली भाषा को संविधान में प्रमुख भारतीय भाषा का दर्जा प्राप्त हुआ है। भारतीय ज्ञानपीठ ने संथाली भाषा की सशक्त कवयित्रि निर्मला पुतुल का काव्य संग्रह ' नगाडे की तरह बजते शब्द' का प्रकाशन किया है। झारखंड के दुमका की निर्मला पुतुल संथाल आदिवासी की नई सुशिक्षित पीढी का प्रतिनिधित्व करती है।
उनकी कविताओं में आदिवासी समाज की पीडा, अत्याचार शोषण के खिलाफ बेचैन आवाज निकलती है।
इस संग्रह के अलावा उनका दिल्ली के रमणिका फाउंडेशन द्वारा 'अपने घर की तलाश में ' संग्रह प्रकाशित हुआ है।
निर्मला पुतुल की रचनाएँ भारत की प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हो रही है। साहित्य अकादमी नई दिल्ली ने उन्हें आदिवासी युवा कवियित्रि के रुप में पुरस्कृत किया है। यह पुरस्कार संथाली भाषा की सशक्त
रचनाकार होने के नाते उन्हें प्राप्त हुआ है। इनकी कविताओं का सशक्त हिंदी अनुवाद झारखंड के दुमका के हिंदी के सुपरिचित कवि श्री अशोक सिंह ने किया है।
हिंदी प्रदेश से संबंधित होने के कारण यह हिंदी साहित्य की नविन पहचान है। सुप्रसिध्द बांग्ला साहित्यकार महाश्वेता देवीजी ने उन्हें सम्मानि…