सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सी डैक के हिंदी उत्पाद


सी-डैक ने भारतीय भाषाओं को कंप्यूटर पर विकसित करने के लिए अनेक सॉफ्टवेयर बनाएं है। कुछ सॉफ्टेवेयरों की संक्षिप्त जानकारी निम्नानुसार है-

जिस्ट कार्ड: -
            जिस्ट कार्ड को किसी  भी पीसी में लगाकर सभी डॉस बेस अनु प्रयोग और कस्टम सॉफ़्टवेअरों में हिंदी के साथ साथ सभी भारतीय भाषाओं में कार्य किया जा सकता है।

जिस्ट शैल: -
            जिस्ट शैल एक सॉफ़्टवेअर समाधान है जिसके माध्यम से डॉस बेस अनुप्रयोग और कस्टम सॉफ़्टवेअरों में हिंदी के साथ साथ सभी भारतीय भाषाओं में कार्य किया जा सकता है।

जिस्ट टर्मिनल: -
            जिस्ट टर्मिनल के माध्यम से हिंदी-अंग्रेजी के लिए तैयार किया गया शब्द संसाधक सॉफ़्टबेअर है। इस सॉफ़्टवेअर कि सहायता से विंड़ोज़ आधारित अनु प्रयोगों में कार्य किया जा सकता है। सॉफ़्टवेअर के द्वारा हिंदी-अंग्रेजी के अतिरिक्त 11 भारतीय भाषाओं जैसे असामी, बांग्ला, गुजराती, कन्नड, मलयालम, मराठी, उड़ीसा, पंजाबी, तमिल, तेलगु और संस्कृत में कार्य कर सकते है। पैकेज कि मुख्य विशेषताएँ इस प्रकार है।

1. भारतीय भाषाओं में टाइपिंग करने कि सुविधा।
2. डॉक्यूमेंट को भारतीय भाषा में तैयार करना।
3. अंग्रेजी से भारतीय भाषाओं में शब्दों और फ़्रेजेस को रुपांतरित करना।
4. भारतीय भाषाओं में बनाए गए डॉक्यूमेंट को एच टी एम एल फ़ॉरमॅट में सेव कर इंटरनेट पर डाला जा सकता है।
5. भारतीय भाषाओं के लिए स्पैल चेक सुविधा भी सॉफ़्टवेअर में दि गई है।
6. भारतीय भाषाओं के लिए समान इंस्क्रिप्ट कुंजीपटल दिया गया है।
7. आर टी एफ़, एच टी एम एल, बी एम पी, जे पी जी फ़ॉरमॅट को सपोर्ट करता है।

आई एस एम-2000 ऑफ़िस: -
            यह विंड़ोज़ आधारित फ़ाँट्स बेस पैकेज है। इस सॉफ़्टवेअर के माध्यम से हिंदी के अतिरिक्त 11 भारतीय भाषाओं जैसे असामी, बांग्ला, गुजराती, कन्नड, मलयालम, मराठी, उड़ीसा, पंजाबी, तमिल, तेलगु और संस्कृत में कार्य किया जा सकता है। आई एस एम-2000 ऑफ़िस सॉफ़्टवेअर विदेशी भाषाओं तिब्बती, भूतानी और सिंहली भाषाओं में भी उपलब्ध है। सॉफ़्टवेअर प्रशासनिक शब्दावली, भारतीय भाषाओं के लिए स्पैल चेक भी दिए गए है। सॉफ़्टवेअर में दि गई "एन्ट्रान' यूटीलिटी के माध्यम से अंग्रेजी के सर्वनाम  को भारतीय भाषाओं में और इसके विपरीत भारतीय भारतीय भारतीय भाषाओं से अंग्रेजी में अनुवाद पाया जा सकता है। आई एस एम-2000 ऑफ़ीस के वेब द्वारा वेबसाइट का निर्माण भी किया जा सकता है। सॉफ़्टवेअर में दी गई "फ़ाईल कन्वेर्टर' सुविधा के माध्यम से अन्य भारतीय भाषाओं के सॉफ़्टवेअरों कि फ़ाईलों को आई एस एम में लाकर काम किया जा सकता है।

आई एस एम-2000 पब्लिशर: -
            आई एस एम-2000 पब्लिशर मुख्य अनु प्रयोग जैसे पेज मेकर, फ़ोटोशॉप, कोरेल ड्रा, पावर प्वाइंट, फ़्रंट पेज,
वर्ड के अनुकूल है। इस सॉफ़्टवेअर के माध्यम से मैनुअल, न्यूज़ लैटर्स, विज्ञापन, वेब पेज  डिज़ाइनिंग, ब्राउशर, इनविटेशन कार्ड, ग्रिटींग कार्ड आदि बनाए जा सकते है। सॉफ़्टवेअर में भारतीय संस्कृती से संबंधीत क्लिप आर्ट, प्रतिक और सजावटी बॉर्डर उपलब्ध है। इन्स्क्रिप्ट टाइपराइटर, फ़ोनेटीक इंग्लिश कि-बोर्ड ले आऊट, स्पैल चेक, अन्य सॉफ़्टवेअर से फ़ाइलों को लाने और इस्की में सेव करने की सुविधाएँ भी सॉफ़्टवेअर में उपलब्ध है।
लीप मेल: -
            लीप मेल की सहायता से हिंदी के अतिरिक्त भारत की सभी प्रमुख भाषाओं में ई-मेल की जा सकती है। सॉफ़्टवेअर में ऑनस्क्रिन टाइपिंग दि गई है। जिससे बिना कि-बोर्ड का प्रयोग किए माऊस कि सहायता से टाइपिंग कि जा सकती है। लीप मेल को दुरेडा, आऊटलुक एक्सप्रेस, नेटस्केप मैसेंजर इत्यादी में कन्फ़िगर किया जा सकता है। इस्की और युनीकोड को सपोर्ट करता है।

आई लीप: -
            यह भारतीय भाषाओं के लिए शब्द संसाधक सॉफ़्टवेअर है। आई लीप सॉफ़्टवेअर में हिंदी के अतिरिक्त अन्य भारतीय भाषाओं के लिए ऑन स्क्रिन कि-बोर्ड दिया गया है। इसमें इनस्क्रिप्ट, फ़ोनेटीक इंग्लिश और टाईपराईटर कि-बोर्ड उपलब्ध है। सर्च एंड रिप्लेस, मल्टीलिंग्यूअल स्पैलचेक, इन्सर्ट, डिलीट और टेक्स्ट को सिलेक्ट करने कि सुविधा भी सॉफ़्टवेअर में दि गई है। भारतीय भाषाओं में तैयार किए गए टàक्स्टा को आर टी एफ़ फ़ॉरमॅट में सेव किया जा सकता है।

चित्रांकन: -
            सी-डैक द्वारा भारतीय भाषाओं के लिए "चित्रांकन' नामक ऑप्टिकल करेक्शन रिकोगनाइजेशन (ग्र्क्ङ) तैयार किया गया है। इसकी  सहायता से भारतीय भाषाओं के टàक्स्ट को स्कैन कर बिना टाइपिंग किए कंप्यूटर में डाला जा सकता है। स्कैन टàक्स्ट और टàक्स्ट जोडा/काटा जा सकता है। बदले गए टàक्स्ट को सेव किया जा सकता है। इनबिल्ट स्पैलचेक भी उपलब्ध है।

मल्टीलिंग्यूअल सॉफ़्टवेअर डेवलपमेंट टूल: -
            सी-डैक द्वारा भाषाओं के लिए सॉफ़्टवेअर डेवलपमेंट आदि का विकास भारतीय भाषाओं में किया जा सकता है। जिसकी सहायता सें हिंदी व अन्य भारतीय भाषाओं में डाटा संसाधन के सभी अनुप्रयोग सॉफ़्टवेअर जैसे वेतन पर्ची, पतों के लेबल, डायरी डीस्पैच, फ़ाईल मुवमेंट आदि का विकास भारतीय भाषाओं में किया जा सकता है

शैली : -
            शैली सॉफ़्टवेअर में भारतीय पारंपारीक संस्कृति से संबंधीत क्पिप आट्र्स दिए गए है। जो वेब डिजाइनरों और प्रकाशकों के लिए बहुत उपयोगी है।
           
            मुख्य कार्यालय (पूणे)
            सी-डैक
            पुणे विश्वविद्यालय कैंपस,
            गणेशखिंड, पुणे - 411007.
            दूरभाष: - 020-5694000
            फ़ैक्स : - 020-5694059.
www.cdac.in

(संदर्भग्रंथ: -  देवनागरी में यांत्रिक और इलेक्ट्रानिक सुविधाएँ।)

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रभाषा से राजभाषा की यात्रा में हिंदी

भारतीय संविधान सभा के तत्कालीन अध्यक्ष एवं स्वतंत्र भारत के प्रथम महामहिम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी ने लोकसभा में राज भाषा हिंदी पर हुई चर्चा के उपरांत दिनांक 14.9.1949 को सभा को संबोधित किया। राज भाषा हिंदी को स्वीकार करने पर उन्होंने हिंदीतर सदस्यों का विशेष आभार व्यक्त किया क्योंकि राष्ट्रीय एकता एवं स्वाभिमान के लिए किसी एक भारतीय भाषा को राज भाषा के रुप में स्वीकार करना आवश्यक था। इस भाषण में उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया है कि राज भाषा हिंदी को बहुमत से स्वीकार किया गया है। वर्तमान राजनीति में हिंदी को राष्ट्र भाषा न मानने की होड़ लगी है जो देश की एकता के लिए घातक है। हमें भारतीय भाषा भगिनी परिवार में एकता एवं समन्वय रखना चाहिए क्योंकि इस राष्ट्र की संस्कृति एक है। जिस तरह एक देश, एक ध्वज,एक राष्ट्र गीत एवं एक राष्ट्र भाषा की संकल्प ना को विश्व में स्वीकार किया जाता है उसी तरह हमारे देश में राष्ट्रीय स्वाभिमान के प्रतीकों का सम्मान करना चाहिए जो अनिवार्य भी और हितकारी भी होगा। भारतीय संविधान के कलम ३०१ के अनुसार हिंदी राज भाषा है जो देवनागरी लिपि में लिखी जाती ह…

सूचना प्रौद्योगिकी व्याख्या एवं परिचय

भाषा अभिव्यक्ती का सशक्त माध्यम है। भाषा मानव जीवन का अभिन्न अंग है। संप्रेषण के द्वारा ही मनुष्य सूचनाओं का आदान प्रदान एवं उसे संग्रहीत करता है। सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक अथवा राजनीतिक कारणों से विभिन्न मानवी समूहाओं का आपस में संपर्क बन जाता है। गत शताब्दी में सूचना और संपर्क के क्षेत्र में अद्भुत प्रगति हुई है। इलेक्ट्रानिक माध्यम के फ़लस्वरूप विश्व का अधिकांश भाग जुड गया है। सूचना प्रौद्योगिकी क्रांती ने ज्ञान के द्वार खोल दिये है। बुद्धी एवं भाषा के मिलाप से सूचना प्रौद्योगिकी के सहारे आर्थिक संपन्नता की ओर भारत अग्रेसर हो रहा है। इलेक्ट्रानिक वाणिज्य के रूप में ई-कॉमर्स, इंटरनेट द्वारा डाक भेजना ई-मेल द्वारा संभव हुआ है। ऑनलाईन सरकारी कामकाज विषयक ई-प्रशासन, ई-बैंकींग द्वारा बैंक व्यवहार ऑनलाईन , शिक्षा सामग्री के लिए ई-एज्यूकेशन आदि माध्यम से सूचना प्रौद्योगिकी का विकास हो रहा है। सूचना प्रौद्योगिकी के बहु आयामी उपयोग के कारण विकास के नये द्वार खुल रहे है। भारत में सूचना प्रौद्योगिकी का क्षेत्र तेजी से विकसित हो रहा है। इस क्षेत्र में विभिन्न प्रयागों का अनुसंधान करके विकास की ग…

आदिवासियों के लिए गुँजते रहेंगे - नगाड़े की तरह बजते शब्द

अभी हाल ही में संथाली भाषा को संविधान में प्रमुख भारतीय भाषा का दर्जा प्राप्त हुआ है। भारतीय ज्ञानपीठ ने संथाली भाषा की सशक्त कवयित्रि निर्मला पुतुल का काव्य संग्रह ' नगाडे की तरह बजते शब्द' का प्रकाशन किया है। झारखंड के दुमका की निर्मला पुतुल संथाल आदिवासी की नई सुशिक्षित पीढी का प्रतिनिधित्व करती है।
उनकी कविताओं में आदिवासी समाज की पीडा, अत्याचार शोषण के खिलाफ बेचैन आवाज निकलती है।
इस संग्रह के अलावा उनका दिल्ली के रमणिका फाउंडेशन द्वारा 'अपने घर की तलाश में ' संग्रह प्रकाशित हुआ है।
निर्मला पुतुल की रचनाएँ भारत की प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हो रही है। साहित्य अकादमी नई दिल्ली ने उन्हें आदिवासी युवा कवियित्रि के रुप में पुरस्कृत किया है। यह पुरस्कार संथाली भाषा की सशक्त
रचनाकार होने के नाते उन्हें प्राप्त हुआ है। इनकी कविताओं का सशक्त हिंदी अनुवाद झारखंड के दुमका के हिंदी के सुपरिचित कवि श्री अशोक सिंह ने किया है।
हिंदी प्रदेश से संबंधित होने के कारण यह हिंदी साहित्य की नविन पहचान है। सुप्रसिध्द बांग्ला साहित्यकार महाश्वेता देवीजी ने उन्हें सम्मानि…